वैजयंती का फूल कैसा होता है | वैजयंती माला का पौधा कैसा होता है

वैजयंती फूल का एक पौधा है जिसमें लाल व पीले रंग के फूल निकलते हैं। वैजयंती के बीज की हमेशा चमकदार बने रहते हैं। और इस बीज का माला बनाया जाता हैं। जिस कारण इस माला का नाम वैजंती माला पड़ा। क्या आपको पता है वैजयंती का फूल कैसा होता है? वैजयंती का फूल का पौधा कैसा होता है? वैजयंती माला को कौन पहनता है? इस सभी के जवाब इस पोस्ट में आपके मिलने वाला है।

वैजयंती का फूल कैसा होता है? Vajanti ka phool kaisa hota hai?

वैजयंती का फूल लाल और पीले कलर का होता है। और इसी वजह से यह अपनी ओर आकर्षित करता है। वैजयंती का फूल देखने में काफी सुन्दर होता है। इस फूल की कलियाँ चौड़ी होती है और काफी मुलायम भी होती है। फूल पौधे के सबसे उपरी सिरे में खिलता है और एक के बाद एक कई फूल खिलते जाते है। फूल के निचले हिस्से में इसके फल / बीज लगते हैं। और इसी बीज से से वैजन्ती माला बनती है।

वैजयंती का फूल कैसा होता है - वैजयंती का फूल कैसा होता है? Vajanti ka phool kaisa hota hai?
वैजयंती का फूल कैसा होता है?

Vaijanti phool – vaijanti ka phool

Vaijanti phool, vaijanti ka phool
Vaijanti phool | vaijanti ka phool

वैजयंती माला का पौधा कैसा होता है?

वैजयंती का पौधा लगभग 5 से 6 फिट लंबा होता है। जब यह पौधा छोटा होता है तो इसकी पहचान करना थोड़ा मुस्किल हो जाता है क्योकि यह बिल्कुल हल्दी के पौधे की तरह ही दिखाई देता है। पौधे की पत्तिया काफी चौड़ी तथा हाथ भर लंबी होती है। तथा इसके तने में लकड़ी नही रहती है। और न ही टहनिया रहती है। लेकिन इसमें जमीन के अंदर से शाखाए (पौधे) विकसित होते रहते हैं। वैजयंती का पौधा हल्दी और कचूर की जाति का पौधा है।

वैजयंती माला का पौधा कैसा होता है?
वैजयंती माला का पौधा कैसा होता है?

वैजयंती के पौधे के लिए कौन सी मिट्टी व जलवायु उपयुक्त है?

गहरी, बलुई मिट्टी, दोमट मिट्टी तथा उचित तरह की सिंचित मिट्टी में वैजयंती का पौधा उत्तम रूप से उगता है।

वैजयंती की माला कौन पहनता है? Who can wear Vaijayanti Mala?

वैजयंती की माला श्रीकृष्ण और विष्णु को सुशोभित करती है। वैजयन्ती माला का शाब्दिक अर्थ होता है- विजय दिलाने वाली माला । इस माली की महिमा का बखान शास्त्रों भी किया गया है। बैजंती माला से श्री कृष्ण मन्त्रों का जाप किया जाता है। भगवान श्री कृष्ण के 6 प्रिय वस्तुओं (गाय, बांसुरी, मोर पंख, माखन, मिश्री व बैजन्ती माला) में से एक बैजंती माला है। इस माला को गले मे धारण करना बहुत शुभ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि मनुष्य वैजन्ती माला का धारण करे तो जीवन में सुख-शांति की प्राप्ति होती है।

वैजयंती की माला कौन पहनता है? Who can wear Vaijayanti Mala?
वैजयंती की माला

वैजयंती की माला का मुख्य रूप से प्रयोग पूजा-पाठ, हवन, यज्ञ, तंत्र और सात्विक साधनों में किया जाता है। इस माला को हर कोई पहन सकता है, लेकिन लक्ष्मी और वैष्णव भक्तों के लिए बैजंती की माला बहुत अच्छी है।

वैजयंती माला का महत्व

आकर्षण के लिए

वैजयंती की माला को पहनने से आपकी सुन्दरता में और निखार आ जाता है। और मानसिक सुकून की प्राप्ति होती है।

आत्म-विश्वास में वृध्दि के लिए करे वैजयंती माला का धारण

यदि आपको किसी भी प्रकार का भय सता रहा है तो आपको वैजयंती माला पहनना चाहिए। संकट के समय श्वास को जोर से खीचकर फिर धीरे से छोड़े और फिर वैजयंती माला पर हाथ फिराने से सारे भय दूर हो जाते हैं।

मन शान्त और साकारात्मक विचार वास

बैजंती का माला धारण करने से मन शांत रहता है, और साकारात्मक उर्जा का प्रवाह होता नाकारात्मक उर्जा का नाश होता है,जिससे मन में साकारात्मक विचार आते हैं।

समस्याओं का जल्दी निदान के लिए

समस्याओं के निराकरण हेतु वैजयंती माला लाभदायक है। वैजयंती माला से ऊ नमः भगवते वासुदेवाय मन्त्र का 2100 बार जाप करके गले में पहनने से समस्याओं का जल्दी निराकरण हो जाता है।

Conclusion

हमने जाना वैजयंती का फूल कैसा होता है? वैजयंती का फूल का पौधा कैसा होता है? वैजयंती माला को कौन पहनते हैं? वैजयंती माला का महत्व क्या है?

इसके बारे में भी जाने –

Leave a Comment