लता मंगेशकर का जीवन परिचय | Lata Mangeshkar Jivan Parichay in Hindi

लता मंगेशकर का जीवन परिचय और प्रसिद्ध गाने पर अवार्ड् (Lata mangeshkar Jivan Parichay in Hindi) song list, awards , net worth, birth date, जन्म जाति पति परिवार पिता माता का नाम, आयु, पहली फ़िल्म, पहला गाना सबसे नया गाना।

बड़े दुःख के साथ कहना पड़ रहा है की सुर की देवी हमारी लता दीदी अब हमारे बीच नहीं रही। विश्व प्रसिद्ध गायिका को भावपूर्ण श्रद्धांजलि भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें।

सुरों की रानी कही जाने वाली लता मंगेशकर हमारे भारत देश के खास रत्नों में से एक हैं। लता मंगेशकर देश में ही नही बल्कि विदेशों में भी अपनी जादुई आवाद की वजह से अपनी एक अलग पहचान बनाए हुएं है। और गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड में भी लता जी का नाम दर्ज है। उन्होनें सबसे ज्यादा गाना गाकर रिकॉर्ड बनाया। लता जी ने 20 अलग-अलग भाषाओ में लगभग 40 हजार गाने गाये हैं। लता मंगेशकर जी की आवाज इतनी सुरीली और पतली है कि इनके सुर सुनने के बाद सभी लोग उनके सुरों में खो जाते हैं। सभी नए पुराने गायक लता जी को सुरों की देवी मानते हैं।

Table of Contents

लता मंगेशकर का जीवन परिचय – Lata Mangeshkar Jivan Parichay in Hindi

लता मंगेशकर का जीवन परिचय - Lata Mangeshkar Jivan Parichay in Hindi
लता मंगेशकर का जीवन परिचय – Lata Mangeshkar Jivan Parichay in Hindi
नामलता मंगेशकर (Lata Mangeshkar)
जन्म28 सितम्बर सन् 1929
स्थानइंदौर, मध्यप्रदेश
माता पिता का नामशीवंती मंगेशकर, पंडित दीनानाथ मंगेशकर
भाई बहन का नामहृदानाथ मंगेशकर (भाई) व बहने मीना मंगेशकर, आशा भोसले, उषा मंगेशकर
राष्ट्रीयताभारतीय
विवाहअविवाहित
पेशापार्श्वगायक, गायिका, संगीत निदेशक, निर्माता
मृत्यु6 फरवरी 2022

लता मंगेशकर जी के पिता जी रंगमंच के कलाकार और गायक भी थे, वो थिएटर में काम किया करते थे। और लता जी को गायकी (संगीत), विरासत में अपने पिता से ही मिली थी। वो उन्ही से सीखा करती थी।

लता मंगेशकर का बचपन (जन्म)

लता मंगेशकर का बचपन
लता मंगेशकर का बचपन

लता जी का जन्म गोमंतक मराठा समाज परिवार में, मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में एक मध्यवर्गीय परिवार में हुआ। पिता जी का नाम पंडित दीनानाथ मंगेशकर और माता जी का नाम शेवंती मंगेशकर है। लता जी सबसे बड़ी बेटी है। इनके भाई का नाम हृदयनाथ मंगेशकर और बहनों के नाम उषा मंगेशकर, मीना मंगेशकर, और आशा भोंसले सभी ने संगीत को ही अपनी आजीविका चुना।

लता मंगेशकर की शिक्षा

लता जी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा को अमान अली खान और अमानत खान जी के साथ की थी। लता जी 5 साल की उम्र में ही अपने पिता दीनानाथ जी से संगीत की शिक्षा दीक्षा ग्रहण करने का काम शुरु कर दिया था।

लता मंगेशकर के करियर की शुरुआत (Lata Mangeshkar Initial Singing Career)-

लता जी ने मात्र 5 साल की छोटी उम्र में ही अपने पिता के एक नाटक में पहला काम किया था। और इसके बाद से वे ट्रेनिंग लेती रही और फिर 13 साल की उम्र में सना 1942 में एक मराठी फिल्म के लिए गाना रिकॉर्ड किया गया। जब फिल्म रिलीज हुइ तो किसी कारणवश गाना को फिल्म से हटा दिया गया, जिससे लता जी काफी निराश हुइ। और इसी साल उनके पिता जी की मौत दिल का दौरा पड़ने से हो गई।

अपने सभी भाई और बहनो में लता मंगेशकर सबसे बड़ी थी, जिससे सारी जिम्मेदारी उनके कंधो पर आ गाई। पिता जी की मृत्यु के बाद लता जी को पोसों की किल्लत की भी झेलनी पड़ी। उनका बचपन काफी संघर्स भरा रहा। विनायक दामोदर एक फिल्म कंपनी के मालिक थे, जो कि लता जी के पिता के अच्छे मित्र थे, अतः पिता जी के जाने के बाद उन्होंने लता जी के परिवार को संभाला।

सन् 1945 में लता जी मुंबई आ गई और अमानत अली खान से ट्रेनिंग लेने लगी। लता जी ने 1947 में हिंदी फिल्म ‘आप की सेवा में’ के लिए भी एक गाना गया, लेकिन किसी ने उनको नोटिस नहीं किया। उस समय गायिका नूर जहान, शमशाद बेगम, ज़ोह्राभई अम्बलेवाली का दबदबा बना हुआ था, बस यही गायिका पूर्ण रूप से सक्रिय थी, उनकी आवाज भारी व अलग थी, उनके सामने लता जी की आवाज काफी पतली और दबी हुई सी लगती थी।

इसके बाद 1949 में लता जी ने लगातार 4 हिट फिल्मों में गाने गाए और तब सभी ने उनको नोटिस किया गया। बरसात, दुलारी, अंदाज व महल फ़िल्में हिट थी, इसमें से महल फिल्म का गाना ‘आएगा आनेवाला’ सुपर हिट हुआ और लता जी ने अपने पैर हिंदी सिनेमा में जमा लिए।

लता मंगेशकर को मिले प्रमुख अवार्ड (Lata Mangeshkar Singing Awards) –

  • फिल्म फेयर पुरस्कार (1958, 1962, 1965, 1969, 1993 and 1994)
  • राष्ट्रीय पुरस्कार (1972, 1975 and 1990)
  • महाराष्ट्र सरकार पुरस्कार (1966 and 1967)
  • 1969 – पद्म भूषण
  • 1974 – दुनिया में सबसे अधिक गीत गाने का गिनीज़ बुक रिकॉर्ड
  • 1989 – दादा साहब फाल्के पुरस्कार
  • 1993 – फिल्म फेयर का लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 1996 – स्क्रीन का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 1997 – राजीव गान्धी पुरस्कार
  • 1999 – एन.टी.आर. पुरस्कार
  • 1999 – पद्म विभूषण
  • 1999 – ज़ी सिने का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 2000 – आई. आई. ए. एफ. का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 2001 – स्टारडस्ट का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 2001 – भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न”
  • 2001 – नूरजहाँ पुरस्कार
  • 2001 – महाराष्ट्र भूषण

इसके अलावा लता मंगेशकर जी को और भी कई अनगिनत अवार्ड मिले। महाराष्ट्र सरकार द्वारा उन्हें महाराष्ट्र भूषण व महाराष्ट्र रत्न से भी सम्मानित किया गया। लता जी को इसके अलावा 250 ट्रोफी व 150 गोल्ड मैडल प्राप्त है।

लता मंगेशकर के गाने – Lata Mangeshkar ke Gane

लता मंगेशकर के 1960 की फेमस फिल्म के गाने (Lata Mangeshkar 1960 hit Songs)

फिल्म का नामगाने के बोल
मुग़ल ए आजम (1960)प्यार किया तो डरना क्या
दिल अपना प्रीत पराई (1960)अजीब दास्ताँ है ये
गाइड(1965)आज फिर जीने की तमन्ना है,
गाता रहे मेरा दिल (किशोर कुमार जी के साथ)
ज्वेल थीफ(1967)होंठो पे ऐसी बात

लता मंगेशकर के 1970 की फेमस फिल्म के गाने (Lata Mangeshkar 1970 hit Songs) –

क्रमांकफिल्म का नामगाने के बोल
1.पाकीज़ा (1972)इन्हीं लोगों नेचलते चलते
2.प्रेम पुजारी (1970)रंगीला रे
3.शर्मीली (1971)खिलते है गुल यहाँ
4.अभिमान (1973) पिया बिना तेरी बिंदिया रे
5.परिचय(1973)बीती ना बिताई
6.नीलूकादली चेकाडली
7.कोरा कागजरूठे रूठे पिया
8.सत्यम शिवम् सुदरमसत्यम शिवम् सुदरम
9.रुदालीदिल हुम हुम करे

लता मंगेशकर के 1980 की फेमस फिल्म के गाने (Lata Mangeshkar 1980 hit Songs) –

  • सिलसिला
  • चांदिनी
  • राम लखन
  • मैंने प्यार किया
  • एक दूजे के लिए
  • हीरो

लता मंगेशकर के 1990 की फेमस फिल्म के गाने (Lata Mangeshkar 1990 hit Songs) –

  • लेकिन
  • दिल वाले दुलहनिया ले जायेंगे
  • दिल तो पागल है
  • हम आपके है कौन
  • मोहब्बतें
  • वीर जारा
  • लम्हे
  • डर

लता मंगेशकर जी इस समय अपने स्वास्थ के चलते ज्यादा फ़िल्में नहीं कर पाती हैं , 2000 के बाद से उन्होंने गिने चुने गाने ही गाये। इसमें लगान फिल्म का ‘ओ पालन हारे’ रंग दे बसंती ‘लुका छिपी’ व बेवफा का ‘कैसे पिया से कहे’ शामिल है।

लता मंगेशकर स्वास्थ्य करोना पोसिटिव (Lata Mangeshkar Health latest Report)

भारत रत्न लता मंगेशकर 8 जनवरी से ही मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती हैं। उन्हें कोरोना वायरस के संक्रमण के बाद आईसीयू में भर्ती कराया गया है। उनका इलाज कर रहे डॉक्टर ने उनके हेल्थ अपडेट देते हुए कहा कि लता मंगेशकर की हालत में थोड़ा सा सुधार दिखा है। लता मंगेशकर अभी भी आईसीयू वार्ड में हैं, डॉक्टरों की टीम लगातार उनके स्वास्थ्य पर नजर रखे हुई है। हम सभी लता जी सलामती की दुआ करते हैं ।

लता मंगेशकर बारे में कुछ अन्य जानकारी

  • पिता दिनानाथ मंगेशकर शास्त्रीय गायक थे।
  • उन्होने अपना पहला गाना मराठी फिल्म ‘किती हसाल’ (कितना हसोगे?) (1942) में गाया था।
  • लता मंगेशकर को सबसे बड़ा ब्रेक फिल्म महल से मिला। उनका गाया “आयेगा आने वाला” सुपर डुपर हिट था।
  • लता मंगेशकर अब तक 20 से अधिक भाषाओं में 30000 से अधिक गाने गा चुकी हैं।
  • लता मंगेशकर ने 1980 के बाद से फ़िल्मो में गाना कम कर दिया और स्टेज शो पर अधिक ध्यान देने लगी।
  • लता ही एकमात्र ऐसी जीवित व्यक्ति हैं जिनके नाम से पुरस्कार भी दिए जाते हैं।
  • लता मंगेशकर ने आनंद घन बैनर तले फ़िल्मो का निर्माण भी किया है और संगीत भी दिया है।
  • वे हमेशा नंगे पाँव गाना गाती हैं।

FAQ

लता मंगेशकर का जन्म कब और कहां हुआ?

लता मंगेशकर जी का जन्म 28 सितंबर 1929 (उम्र 92 वर्ष) इंदौर मध्यप्रदेश में हुआ।

लता मंगेशकर को किस नाम से पुकारा जाता है?

स्वर-साम्राज्ञी, राष्ट्र की आवाज, सहराब्दी की आवाज, भारत कोकिला, स्वर कोकिला (बॉलीवुड की कोकिला) आदि अनेक नामो से भी पुकारा जाता है।

लता मंगेशकर का पहला गाना कौन सा है?

लता मंगेशकर का पहला गाना हिंदी गीत- “माता एक सपूत की दुनिया बदल दे तू” फिल्म- गजभाऊ (मराठी, 1943) है।

लता मंगेशकर की मृत्यु कब हुई

विश्व प्रसिद्ध गायिका लता मंगेशकर की मृत्यु 6 फरवरी 2022 को हुई

यह भी पढ़े-

Related Article

Leave a Comment