Skip to content

About Peacock in Hindi | मोर के बारे में जानकारी व रोचक तथ्य

About Peacock in Hindi: मोर एक शर्मीला पक्षी है जो एकांत में ही रहा करता है। नर को मोर और मादा को मोरनी कहा जाता है। मोर हरे व नीले रंग के होते हैं। बरसात के मौसम में काले बादल छाने पर जब मोर पंख फैला कर नाचता है तो ऐसा लगता जैसे हीरों से जड़ी शाही पोशाक पहनी हुई हो; इसीलिए मोर को पक्षियों का राजा भी कहा जाता है।

5 Sentences about peacock in Hindi – मोर के बारे में 5 वाक्य

  • मोर (Peacock) भारत का राष्ट्रीय पक्षी है।
  • मोर के पंख रंग-बिरंगें और बहुत खूबसूरत होते हैं।
  • मोर के सर में कलकी होती है।
  • मोर वर्षा ऋतु में अपने खूबसूरत पंख फैला कर नृत्य करता है।
  • मोर अनाज, फल और कीड़े-मकोड़े आदि खाता है।

About Peacock in Hindi – मोर के बारे में जानकारी

About Peacock in Hindi | मोर के बारे में जानकारी व रोचक तथ्य
About Peacock in Hindi | मोर के बारे में जानकारी व रोचक तथ्य
वैज्ञानिक नामपावो क्रिस्टेटस (Peafowl Cristatus)
नरमोर (Peacock)
मादामोरनी (Peahen)
जीवन काल25 से 30 वर्ष
लंबाई215 सेमी
वजन5 किलोग्राम
राष्ट्रीय पक्षीभारत, श्रीलंका, म्यांमार
मोर के बारे में जानकारी (About Peacock in Hindi)

मोर (Peacock)  या मयूर पैवोनिनाए उपकुल के अंतर्गत तीन जातियों का सामूहिक नाम है। जिनमें से दो – भारतीय उप महाद्वीप में मिलने वाले भारतीय मोर हैं। और दक्षिण पूर्वी एशिया में पाया जाने वाला हरा मोर हैं। तीसरी जाति कांगो मोर है, जो अफ्रीका की कांगो द्रोणी में मिलती है।

यह भी जानें- भारत के सभी 54 टाइगर रिजर्व की सूची

मोर ज़्यादातर खुले वनों में रहना पसंद करते हैं। नीला मोर भारत और श्रीलंका का राष्ट्रीय पक्षी है। नर मोर की एक ख़ूबसूरत और रंग-बिरंगी पंखों की पूँछ होती है, जिसे वह फैलाकर प्रणय निवेदन के लिए नृत्य करता है, विशेष रूप से बसन्त और बारिश के मौसम में। मोर एक शर्मीला पक्षी है जो सहवास एकांत में ही करता है। मोर की मादा मोरनी कहलाती है।

नर मोर की लंबाई लगभग 215 से.मी. तथा ऊँचाई लगभग 50 से.मी. होती है। मादा मोर की लंबाई लगभग 95 से.मी. ही होती है। नर और मादा मोर की पहचान करना बहुत आसान है। नर के सिर पर बड़ी कलगी तथा मादा के सिर पर छोटी कलगी होती है। नर मोर की छोटी-सी पूँछ पर लम्बे व सजावटी पंखों का एक गुच्छा होता है। मोर के इन पंखों की संख्या 150 से 200 के लगभग होती है।

मादा पक्षी के ये सजावटी पंख नहीं होते। वर्षा ऋतु में मोर जब पूरी मस्ती में नाचता है तो उसके कुछ पंख टूट जाते हैं। साल में एक बार अगस्त के महीने में मोर के सभी पंख झड़ जाते हैं। ग्रीष्म-काल के आने से पहले ये पंख फिर से निकल आते हैं। मुख्यतः मोर नीले रंग में पाया जाता है, परन्तु यह सफेद, हरे, व जामुनी रंग का भी होता है। इसकी उम्र 25 से 30 वर्ष तक होती है। मोरनी घोंसला नहीं बनाती, यह जमीन पर ही सुरक्षित स्थान पर अंडे देती है। मोर के दौड़ने की रफ्तार 16 किलोमीटर/घंटे की होती है।

बरसात के मौसम में काली घटा छाने पर जब यह पक्षी पंख फैला कर नाचता है तो ऐसा लगता है कि मानो इसने हीरों से जड़ी शाही पोशाक पहनी हुई हो, इसीलिए मोर को पक्षियों का राजा भी कहा जाता है। मोर के अद्भुत सौंदर्य के कारण ही भारत सरकार ने 26 जनवरी,1963 को इसे राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया। हमारे पड़ोसी देश म्यांमार का राष्ट्रीय पक्षी भी मोर ही है। ‘फैसियानिडाई’ परिवार के सदस्य मोर का वैज्ञानिक नाम ‘पावो क्रिस्टेटस’ है। अंग्रेजी भाषा में इसे Blue Peafowl अथवा ‘Peacock’ कहते हैं। संस्कृत भाषा में यह मयूर के नाम से जाना जाता है। मोर भारत तथा श्रीलंका में बहुतायत में पाया जाता है।

मोर प्रारम्भ से ही मनुष्य के आकर्षण का केन्द्र रहा है। अनेक धार्मिक कथाओं में मोर को उच्च कोटि का दर्जा दिया गया है। हिन्दू धर्म में मोर को मार कर खाना महापाप समझा जाता है। भगवान श्रीकृष्ण के मुकुट में लगा मोर का पंख इस पक्षी के महत्व को दर्शाता है। महाकवि कालिदास ने महाकाव्य ‘मेघदूत’ में मोर को राष्ट्रीय पक्षी से भी अधिक ऊँचा स्थान दिया है।

राजा-महाराजाओं को भी मोर बहुत पसंद रहा है। प्रसिद्ध सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य के राज्य में जो सिक्के चलते थे, उनके एक तरफ मोर बना होता था। मुगल बादशाह शाहजहाँ जिस तख्त पर बैठते थे, उसकी संरचना मोर जैसी थी। दो मोरों के मध्य बादशाह की गद्दी थी तथा पीछे पंख फैलाये मोर। हीरों-पन्नों से जरे इस तख्त का नाम तख्त-ए-ताऊस’ रखा गया। अरबी भाषा में मोर को ‘ताऊस’ कहते हैं।

यह भी जाने –

5 Lines about peacock in Hindi – मोर के बारे में 5 लाइन हिंदी में

  1. मोर भारत देश का राष्ट्रीय पक्षी है।
  2. मोर हरा और नीले रंग का होता है।
  3. भगवान श्रीकृष्ण के सर पर मोर का पंख लगा होता है।
  4. मोर बादल के छाने पर अपने पंख फैला कर जंगल में नृत्य करता है।
  5. मोर अनाज फल और कीड़े-मकोड़े आदि खाता है।

10 Sentences about peacock in Hindi

यहाँ पर Few lines about peacock in Hindi दिया गया है।

  1. मोर (Peacock) हमारे भारत देश का राष्ट्रीय पक्षी है। मोर पूरे भारत में पाये जाते है। और दिखने में खूबसूरत होते हैं।
  2. मोर की उंचाई लगभग 1 मीटर से ज्यादा होती है।
  3. मोर के पंख बहुत खूबसूरत होते हैं जो विभिन्न रंगों में दिखाई देते हैं।
  4. मोर हरे और नीले रंग के होते है। मोर की गर्दन और छाती नीले रंग की होती है।
  5. मोर के पंख उसकी खूबसूरती का प्रतीक होते हैं, और उनके बिना मोर अधूरा हो जाता है।
  6. मोर की पूंछ में कई सारे पंख होते है जो रंगीन होते है। इसके पंख के आगे का हिस्सा चांद जैसा होता है।
  7. बारिश के मौसम में मोर अपने पंखों को फैलाकर नाचता है। मोर का नृत्य काफी मनमोहक होता है।
  8. मोर सर्वहारी होते हैं और कीड़े, पौधों और छोटे जानवरों सहित विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों को खाते हैं।
  9. मोर उड़ने में सक्षम होते हैं, लेकिन वे अपना ज्यादातर समय जमीन पर बिताना पसंद करते हैं।
  10. मोर की उम्र आमतौर पर 25 से 30 साल के बीच होती है। इनका वजन 5 किलोग्राम के आसपास होता है।

मोर के बारे में रोचक तथ्य – Information About Peacock in Hindi

मोर के बारे में रोचक तथ्य - Information About Peacock in Hindi Amazing Peacock Information in Hindi
मोर के बारे में रोचक तथ्य – Information About Peacock in Hindi Amazing Peacock Information in Hindi

पृथ्वी पर मोर सबसे बड़े उड़ने वाले पक्षियों में से एक है। मोर के पंखों का फैलाव 4.9 (1.5 मीटर) के आसपास होता है।


नीला मोर (Blue Peacock) भारत और श्रीलंका का राष्ट्रीय पक्षी है। यह दिखने में बहुत सुंदर होता है।


मोर की पूँछ में 200 से भी अधिक चमकीले रंग के पंख होते हैं और लगभग सभी पंख में बड़े-बड़े आँख के धब्बे बने होते हैं जबकि मादा के नहीं होते।


मोर के सिर की कलगी को मुकुट भी कहा जाता है इसलिये मोर को पक्षियों का राजा भी कहते है।


जब मोर पहली बार पैदा होते हैं, तो उनके पास पूंछ नहीं होती है। जब वे तीन साल के हो जाते हैं तभी वे खूबसूरत दिखने लगते हैं।


मोर सर्वाहारी पक्षी होते हैं, मुख्य रूप से पौधे, फल, फूल की पंखुड़ियाँ, कीड़े-मकोड़े, टिड्डे, साँप आदि इनसे भोजन हैं।


मोर हमेशा झुंड में रहना पसंद करते हैं झुंड में एक नर मोर और 3 से 4 मादा मोरनी रहती है। मोरनी साल में 2 बार अंडे देती है।


Amazing Peacock Information in Hindi

वैसे तो मोर हवा में उड़ने में सक्षम होते हैं लेकिन ज्यादा देर ये हवा में नहीं रह सकते है। इसलिए मोर जमीन पर चलना ज्यादा पसंद करते है।


मोर पक्षी भारत के अलावा नेपाल, बांग्लादेश, श्रीलंका, भूटान, म्यांमार और पाकिस्तान जैसे देशों में भी पाया जाता है।


मोर (Peacock) शिवजी के पुत्र कार्तिकेय के वाहन भी हैं।


मुगल बादशाह शाह जहां ने तख्त ऐ ताऊस बनवाया था जो मोर की सौंदर्य से प्रेरित था। ताऊस का फ़ारसी में अर्थ मोर होता है।


मोर की दौड़ने की औसत गति 16 किलोमीटर प्रति घंटा होती है।


एक मोर एक वर्ष में लगभग 100-150 पंख गिराता है फिर उसके शरीर में नए पंख उगते हैं।


हिन्दू धर्म में मोर और मोर पंखों को धार्मिक दृष्टि से देखा जाता है। भगवान श्री कृष्ण के मुकुट में मोर पंख लगा होता है।


प्राचीन काल में भोजपत्र आदि मोर पंखों को स्याही में डुबाकर लिखने के लिए उपयोग में लाया जाता था।


वैसे तो मोर की आवाज बहुत ही तेज और कठोर होती है, लेकिन हमेशा ये एक जैसे आवाज नहीं निकालते हैं। मोर कई तरह की आवाज निकाल सकते हैं।


मोर को इंग्लिश में Peacock, मोरनी को Peahen, और इनके बच्चों को Peachicks कहते है। तथा इन सभी के समूह को Peafowl कहा जाता है।


मोरनी अंडे रखने के लिए अपना घोसला नहीं बनाती बल्कि यह जमीन पर ही किसी सुरक्षित स्थान में अंडे देती है।


बसंत ऋतु में नर मोर मादा मोर को आकर्षित करने के लिए अपने पंख फैलाकर नृत्य करता है।


भारत सरकार ने सन 1982 में मोर के शिकार पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया है। ताकि मोर की लगातार घटती हुई आबादी को बचाया जा सके।


FAQ – मोर के बारे में सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर

Q: मोर क्या खाता है?

Ans: मोर सर्वाहारी पक्षी होते हैं, इनका भोजन मुख्य रूप से पौधे, फल, फूल की पंखुड़ियाँ, कीड़े-मकोड़े, टिड्डे, साँप आदि हैं।

Q: मोर शाकाहारी है या मांसाहारी?

Ans: मोर सर्वाहारी होता है। सब कुछ खाता है।

Q: मोर की आवाज कैसी होती है?

Ans: मोर की आवाज तेज और कठोर होती है।

Q: मोर का जीवनकाल कितना होता है?

Ans: मेर का जीवनकाल 25 से 30 साल होता है।

Q: भारत में मोर को राष्ट्रीय पक्षी कब घोषित किया गया?

Ans: मोर 1963 से भारत का राष्ट्रीय पक्षी है।

nv-author-image

Rohit Soni

Hello friends मेरा नाम रोहित सोनी (Rohit Soni) है। मैं मध्य प्रदेश के सीधी जिला का रहने वाला हूँ। मैंने Computer Science से ग्रेजुएशन किया है। मुझे लिखना पसंद है इसलिए मैं पिछले 5 वर्षों से लेखन का कार्य कर रहा हूँ। और अब मैं Hindi Read Duniya और कई अन्य Website का Admin and Author हूँ। Hindi Read Duniya पर हम उपयोगी, ज्ञानवर्धक और मनोरंजक जानकारी हिंदी में  शेयर करने का प्रयास करते हैं। इस website को बनाने का एक ही मकसद है की लोगों को अपनी हिंदी भाषा में सही और सटीक जानकारी  मिल सके।View Author posts

Share this post on social!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.