Metals Name in Hindi and English | Dhatuo ke Naam with pictures | धातुओं के नाम

इस लेख में हम कुछ धातुओं के नाम (Metals Name in Hindi and English) जानेंगें। हमारे आस पास धातुओं के बने सामान देखेने को मिल जाते हैं लेकिन कई धातुएं ऐसी होती है जिनके नाम हमें हिंदी और इंग्लिश दोंनों में नही पता होते हैं। तो इस पोस्ट में Dhatuo ke Naam with pictures देखेगें। इसके साथ ही जानेंगे की धातु किसे कहते हैं? धातु के क्या क्या गुण होते है? व धातु और अधातु में अंतर क्या होता है?

Metals Name in Hindi and English – धातुओं के नाम

Metals Name in Englishधातुओं के नाम हिंदी मेंMetals Pictures
Metal (मेटल)धातु
Gold (गोल्ड)सोनाGold
Silver (सिलवर)चाँदीSilver
Copper (काँपर)ताँवाCopper
Brass (ब्रास)पीतलBrass
Bell Metal (बेलमेटल)काँसाBell Metal
Lead (लेड)शीशाLead
Zink (जिंक)जस्ताZink
Iron (आयरन)लोहाIron
Cast iron (कास्टऑयरन)कच्चा लोहाCast-iron
Steel (स्टील)इस्पातSteel
Tin (टिन)रांगाTin
Aluminum (एल्युमिनियम)एल्युमिनियमAluminum
Platinum (प्लैटिनम)प्लैटिनमPlatinum
Mercury (मर्करी)पाराMercury

धातु किसे कहते हैं? (What is Metal in Hindi)

ऐसा तत्व जिसमें चमक हो, आघातवर्धनीय गुण हो, तथा जिसकी तनन क्षमता अधिक हो तथा ऊष्मा एवं विधुत के सुचालक हो और ठोस अवस्था में हो धातु कहलाता है। जैसे- सोना, चाँदी, लोहा, तांबा, पीतल इत्यादि।

दूसरे शब्दो में, ऐसे तत्व जो आसानी से इलेक्ट्रॉन को छोड़कर धनायन बनाने की प्रवृत्ति रखते हैं उन्हें धातु कहते हैं।

अधातु किसे कहते हैं

ऐसे पदार्थ जो आघातवधर्य एवं तन्य नहीं होते हैं तथा भंगुर होते हैं, अधातु कहलाते हैं। जैसे – कोयला, फॉस्फोरस, सल्फर, क्लोरीन, ब्रोमीन, इत्यादि। अधातुएं विद्युत तथा ऊष्मा के कुचालक होती है।

यह भी जानें – 118 तत्वों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में (Elements Symbol and its Name)

धातु के क्या क्या गुण होते हैं?

किसी धातु मे निम्नलिखित गुण पाए जाते हैं जो उन्हें धातु की श्रेणी में लाते हैं। जैसे-

धात्विक चमक:

धातुओं में अपनी चमक होती है जिसे धात्विक चमक कहते हैं। सोना, चांदी इसके अच्छे उदाहरण देखे जा सकते हैं।

कठोरता:

अधिकतर धातुएं कठोर होती है। लेकिन किसी धातु में कठोरता कम तो किसी में ज्यादा होती है। जैसे- लोहा और तांबा मे कठोरता अधिक होती है। तो सोना-चादी में कठोरता कम होती है। लेकिन पारा व सोडियम इसके अपवाद है।

आघातवर्धनीय:

धातुओं में आघातवर्धनीय का गुण पाया जाता है। जिसके कारण किसी भी धातु को पीट पीटकर पतली चादर के रूप में बदला जा सकता है। जैसे लोहे को पीट कर उसे पतली चादर में बदला जा सकता है। जिससे लोहे का दरवाजा बनाया जाता है, और अन्य कामों में किया भी जाता है। सबसे ज्यादा आघातवर्धनीय धातु सोना और चांदी होता है। जिसको पीट कर बहुत ही पतली चादर बनाई जाती है, जिससे सुंदर आभूषण बनते हैं।

लचीलापन:

धातुओं में लचीलापन पाया जाता है। इसके कारण किसी भी धातु को पतले तार के रूप में बदला जा सकता है। सोना सबसे ज्यादा लचीला होता है।

सुचालक:

धातुएं ऊष्मा एवं विधुत के सुचालक होते है। यानी की इनमें बिजली प्रवाहित की जा सकती है। बिजली के सुचालक होने के गुण के कारण ही एलुमिनियम और कॉपर का अधिकतर प्रयोग बिजली के तार बनाने में किया जाता है और उष्मा का सुचालक होने के कारण एलुमिनियम और तांबे का प्रयोग खाना पकाने वाले बर्तन बनाने में किया जाता है।

टंगनेस :

Toughness धातु का वह गुण होता है जिसके कारण किसी धातु को तोड़ मरोड़ करने पर भी वह टूटता नहीं है।

भंगुरता:

भंगुरता धातु का वह गुण होता है जिसके कारण उसके टुकड़े-टुकड़े किए जा सकते हैं या फिर उसे पाउडर के रूप में परिवर्तित कर दिया जाता है, जैसे:- आयरन, कास्ट।

टैनसिटी:

यह गुण किसी धातु में बल लगाने पर वह नही टूटता, यानी की बाहरी लगने वाले बल को सहन करने की क्षमता ही tenacity कहलाती है।

धातु और अधातु में अंतर

धातुएंअधातुएं
धातु में धात्विक चमक पाई जाती है।जबकि अधातु में कोई भी चमक का गुण नहीं पाया जाता है।
धातु में तन्यता होती है।अधातुएं तन्य नहीं होती है।
धातु में आघातवर्धनीयता का गुण होती है।अधातु में कोई भी आघातवर्धनीयता का गुण नहीं होता है।
सभी धातुएं कठोर होती है। (पारा को छोड़कर)अधातु भंगुर होती है अर्थात चूर्ण की अवस्था में होती है।
धातुएं इलेक्ट्रॉनिक त्यागती है।अधातु इलेक्ट्रॉन ग्रहण करती है।
धातुएं ऊष्मा एवं विधुत के सुचालक होते है।अधातुएं ऊष्मा एवं विधुत के कुचालक होते है।

धातु के बारे में रोचक तथ्य

  • सबसे हल्की धातु लिथियम है।
  • सबसे भारी धातु ऑस्मियम होती है।
  • टंगस्टन का गलनांक सबसे ज्यादा 3500 डिग्री सेल्सियस होता है। लोहा का गलनांक 1500 डिग्री ही होता है।
  • भारत में टंगस्टन का प्रमुख उत्पादक राज्य राजस्थान है।
  • जिक्रोनियम एक ऐसा धातु है जो ऑक्सीजन और नाइट्रोजन दोनों के संपर्क में आने पर जलने लगता है।
  • आतिशबाजी में हरा रंग लाने के लिए बेरियम धातु का प्रयोग किया जाता है।
  • आतिशबाजी में उत्पन्न लाल रंग सट्रांशिएम के कारण नजर आता है।
  • सोना, चांदी, पारा और प्लैटिनम उत्कृष्ट धातुए मानी जाती है।
  • बिजली का सबसे अधिक सुचालक धातु चांदी और तांबा है।
  • सोना और चांदी में आघातवर्ध का गुण सबसे ज्यादा होता है।
  • प्याज व लहसुन में गंध उसमें उपस्थित पोटैशियम के कारण होती है।
  • पारा एक ऐसी धातु है जो नार्मल तापमान पर ही तरल अवस्था में हो जाता है।
  • कांस्य आमतौर पर तांबे और टिन से बना एक मिश्र धातु है।
  • पीतल आमतौर पर तांबे और जस्ता से बना मिश्र धातु है।

यह भी जानें – 118 तत्वों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में (Elements Symbol and its Name)

FAQ Metals Name

Q. सबसे कठोर धातु कौन सी होती है?

Ans. सबसे कठोर धातु प्लेटिनम होती है। और हीरा ज्ञात पदार्थों में सबसे अधिक कठोर पदार्थ है, जो की कार्बन का शुद्ध रूप है।

Q. पानी में तैरने वाली धातु कौन सी है?

Ans. पानी पर तैरने वाली धातु का नाम सोडियम (Sodium) है।

Q. सबसे हल्की धातु कोन सी है?

Ans. लिथियम (Lithium) सबेस हल्की धातु है।

Q. सबसे भारी धातु कौन सी होती है?

Ans. ऑस्मियम (Osmium) सबसे भारी धातु है।

Q. पारा धातु है या अधातु?

Ans. पारा एक ऐसी धातु है जो सामान्य तापमान पर भी द्रव अवस्था में रहती है। इसमें धातु के सभी गुण विद्यमान होते है जैसे की यह ऊष्मा तथा विधुत की सुचालक होती है। पारा को अंग्रेजी में mercury कहते है, तथा Hg के संकेत के द्वारा इसे प्रदर्शित किया जाता है।

Q. 10 metals name in English

Ans.
1. Gold
2. Silver
3. Copper
4. Aluminum
5. Bell Metal
6. Lead
7. Zink
8. Iron
9. Platinum
10. Brass

Q. 10 metals name in Hindi (10 धातुओं के नाम)

Ans.
1. सोना
2. चाँदी
3. ताँवा
4. एल्युमिनियम
5. पीतल
6. काँसा
7. शीशा
8. जस्ता
9. लोहा
10. प्लेटिनम

Related Post

Leave a Comment