Cryptocurrency Meaning in Hindi – क्रिप्टो करेंसी क्या होती है, क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार की होती है?

जिस प्रकार से सभी देशों में किसी भी प्रकार के लेन देन के लिए वहाँ की मुद्रा यानी की Money होती है। जैसे कि भारतीय मुद्रा को रुपया कहा जाता है। और अमेरिका की मुद्रा को डालर कहा जाता है। तथा चाइनीज मुद्रा को यान कहाँ जाता है। ये सब तो नार्मल करेंसीज होती हैं अपने अपने देश की जिन पर सरकार का कंट्रोल होता हैं।

लेकिन एक प्रकार की और Digital Currency होती है जिस पर किसी एक का कंट्रोल नही होता है। जी हाँ जिसका नाम है Cryptocurrency (क्रिप्टो करेंसी) चलिए जानते हैं Cryptocurrency meaning in Hindi, क्रिप्टो करेंसी क्या होती है? क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार की होती है, सबसे पॉपुलर क्रिप्टो करेंसी कौन सी है? तथा crypto currency के फायदे और नुकसान है क्या हैं।

Cryptocurrency Meaning in Hindi – क्रिप्टोकरेंसी मीनिंग इन हिंदी?

Cryptocurrency Meaning in Hindi - क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार की होती है?
Cryptocurrency Meaning in Hindi – क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार की होती है?

आइए जानते हैं कि आखिर Crypto Currency क्या है? Crypto का Meaning Hindi में सीक्रेट या गुप्त व Currency का मतलब मुद्रा होता हैं, यानी कि Cryptocurrency Meaning in Hindi सिक्रेट मुद्रा होता है। क्रिप्टो करेंसी एक वर्चुअन करेंसी होती है, इसका मतलब कि यह फिजिकल रूप में उपलब्ध नही होती है; यानी कि इसे हम नोट और सिक्कों की तरह हाथ में नही ले सकते और ना ही इसे जेब में रख सकते हैं। क्योंकि यह सिर्फ ऑनलाइन इंटरनेट पर ही हमारे Digital Wallet में Digital form में ही रहता है। अतः CryptoCurrency को Online Currency भी कह सकते हैं। क्योंकि यह सिर्फ ऑनलाइन ही लेन-देन करने में सक्षम है।

Cryptocurrency kitne prakar ki hoti hai – क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार की होती है?

Cryptocurrency कई प्रकार की होती हैं ये लगभग 5000 से भी ज्यादा अलग-अलग Cryptocurrency मार्केट में मौजूद हैं। जिनमें से कुछ मोस्ट पॉपुलर Cryptocurrency Bitcoin, Ethereum, Ripple, Litecoin, Tether और Libra इत्यादि है। इनमें क्रिप्टोकरेंसी में आप इनवेस्ट भी कर सकते हैं और बिट कॉइन की तरह ही खरीद और बेच सकते हैं।

Bitcoin meaning in hindi – बिटकॉइन का मतलब क्या होता है?

पहली बार Crypto Currency के रूप में Bitcoin को ही 2009 में इंट्रोड्यूज किया गया था। Bitcoin का आविष्कार सातोशी नकामोतो नामक एक engineer ने 2008 में किया था, और 2009 में open source software के रूप में इसे जारी किया गया था। और अभी तक की सबसे पॉपुलर Cryptocurrency Bitcoin ही है। और बिट कॉइन को 21 मिलियन ही प्रोड्यूस किया गया है। और यह संख्या फिक्स है अतः नोट की तरह इसको और ज्यादा नही छापा जा सकता है। इसी वजह से Bitcoin की कीमत तेजी से उपर नीचे होती रहती है। जब बाजार नें इसकी मांग बढ़ती है तो बिट कॉइन कीं कीमत बढ़ जाती है, तथा जब मांग घटती है तो कीमत भी घटती जाती है।

जैसा की आपको पता ही होगा कि हमारी भारतीय मुद्रा हो या फिर अमेरिकी डॉलर, चाइनीज यूरो आदि सभी करेंसी पर सरकार का पूरा-पूरा कंट्रोल होता है। लेकिन बिट कॉइन जैसे क्रिप्टो करेंसी पर ऐसा कोई भी कंट्रोल नही होता है। इस Virtual Currency पर गवर्मेन्ट अथोरिटी जैसे सेंट्रल बैंक्स, किसी देश या एजेंसी का कोई कंट्रोल नही होता है। यानी की Cryptocurrency ट्रेडिशनल बैंक को फॉलो नही करती है। यह एक Computer Wallet से दूसरे Computer Wallet तक Transfer होता रहता है।
क्रिप्टो करेंसी में ब्लॉक चैन टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाता हैं। जिससे यह एकदम सिक्योर हो जाती है।

Sabse popular cryptocurrency kaun si hai – सबसे पॉपुलर क्रिप्टोकरेंसी कौन सी है?

विश्व भर में Bitcoin ही सबसे पॉपुलर Cryptocurrency है। और यह कितनी ज्यादा पॉपुलर है इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं, कि इसे दुनिया भर की बहुत सी कंपनिया Bitcoin payments को अब accept करने लगी है। और लगातार इन कंपनियो की गिनती बढ़ती जा रही है। इन Bit coin currency का उपयोग करके शॉपिंग कर सकते हैं, फूड डिलीवरी, ट्रेडिंग, ट्रेवलिंग आदि सब कुछ किया जा सकता है।

क्या बिटकॉइन भारत में वैध है?

शुरुआत के समय में तो भारत में बिटकॉइन लीगल था लेकिन कुछ सबय पहले बीच में भारत में बिट कॉइन को RBI ने 2018 में वैन लगा दिया था। क्योंकि RBI इसे illegal मानती थी। लेकिन फिर मार्च 2020 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा इस वैन को हटा दिया गया। और इसी कारण से भारत मे बिटकॉइन की पॉपुलिरिटी इतनी नही थी। लेकिन अब भारत में भी क्रिप्टो करेंसी का यूज लीगल हो गया है।

इसमें आप अभी इनवेस्ट करना, ट्रेडिंग करना, और होल्ड आदि कर सकते हैं। और अब भारत में भी Cryptocurrency users की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। आप जानकर हैरान हो जाएगे की 1 Bitcoin की कीमत इस समय लगभग 44 लाख भारतीय रुपया है। और इसकी कीमत तेजी से घटती बढ़ती रहती है।

Cryptocurrency ke fayde – क्रिप्टो करेंसी के फायदे क्या है?

  • इसमें आप आसानी से और फटा-फट ट्रांजेकशन कर सकते हैं।
  • क्रिप्टोकरेंसी से इंटरनेशनल ट्रांजेक्सन चुटकियो में किए जा सकते हैं।
    आपको न के बराबर ट्रांजेक्शन चार्ज देना पड़ता हैं।
  • इसमें कोई भी थर्डपार्टी नही होती है, और ज्यादा सिक्योर होती है क्योंकि इसमें ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है।
  • Cryptocurrency का कंट्रोल सरकार या किसी अन्य एजेंसी के पास नही होता है। जिसके कारण हम जब चाहे जैसे चाहे इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • क्रिप्टो करेंसी सीक्रेट होती है इसका मतलब किसी को भी नही पता होता कि आपके पास कितनी करेंसी है। आप इसका कहाँ पर यूज करते है। सभी जानकारिया गुप्त होती है। इसी वजह से इसका उपयोग कंपनिया खरीद बेच करने में करती हैं।


Cryptocurrency ke nuksan – क्रिप्टो करेंसी के नुकसान क्या क्या है?

आपने देखा की क्रिप्टो करेंसी के फायदे तो बहुत सारे हैं लेकिन इसके भी कुछ निगेटिव पांइट है जैसे कि –

  • सबसे बड़ा नुकसान यह है कि इसमें कोई गवर्मेंट अथोरिटी नही है और कोई थर्ड पार्टी एजेंसी नही है, तो अगर कोई फ्रॉड होता है तो कोई भी सपोर्ट नही मिलता है।
  • यह Eco-Friendly नही है क्योंकि इसे सिक्योर बनाने के लिए बहुत सारे कंप्यूटर और रिसोर्सेस का इस्तेमाल किया जाता है। जिसकी वजह से इलेक्ट्रिसिटी बहुत ज्यादा खर्च होती है। लेकिन हो सकता है कि भविष्य में नई टेक्नोलॉजी आ जाए।
  • चूकि यह सीक्रेट करेंसी है तो इसका इस्तेमाल Unethical Users भी करते हैं। जिसकी कोई डिटेल प्राप्त नही की जा सकती है।

Conclusion

Cryptocurrency का के द्वारा टांजेक्शन करने पर कोई रोक टोक नही होता है और न ही इसमें कोई लिमिट होती है। आप जितना चाहे उतना दूसरे को ट्रांसफर कर सकते हैं यदि आपके पास है तो। वैसे इसकी सिक्योरिटी को काफी मजबूत रखा गया हैं लेकिन कभी स्कैम होने पर आपको किसी भी प्रकार का सपोर्ट नही मिलता है क्योंकि यह डिसेन्ट्रलाइज्ड होती हैं। Crypto currency पर सरकार का कोई कंट्रोल नही होता है। इसलिए कोई मदद नही मिल पाती है। लेकिन इसका भविष्य का अच्छा होने वाला है।

उम्मीद करता हूँ कि यह आर्टिकल Cryptocurrency Meaning in Hindi आपके लिए उपयोगी रहा होगा। यदि आपको यह पोस्ट पसंद आती है तो दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे धन्यवाद!


FAQ Related Cryptocurrency

Q. Bitcoin का आविष्कार किसने और कब किया था?
Ans. 2008 में Bitcoin का आविष्कार सातोशी नकामोतो नामक एक engineer ने किया था।

Q. बिटकॉइन इंडिया में लीगल है या नहीं?
Ans. जी हाँ, बिटकॉइन इंडिया में भी लीगल है।

Q. बिटकॉइन की शुरुआत कब से हुई?
Ans. Bitcoin की शुरुआत 3 जनवरी 2009 को हुई थी।

Q. Cryptocurrency को सिक्योर बनाने के लिए किस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है?
Ans. Cryptocurrency को सिक्योर बनाने के लिए Block chain टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है।

Q. Cryptocurrency का मालिक कौन है?
Ans. क्रिप्टो करेंसी का कोई भी एक व्यक्ति मालिक नही है।

यह भी पढ़े

Leave a Comment